सीटीबीटीओ द्वारा भारत को पर्यवेक्षक का दर्जा

CTBTO invites India to be an observer at meetings
प्रश्न-लसीना जेरबो (सीटीबीटीओ के कार्यकारी सचिव) ने 24-28 जून, 2019 के मध्य कहां आयोजित होने वाले विज्ञान और प्रौद्योगिकी सम्मेलन में भाग लेने हेतु भारत को आमंत्रित किया है?
(a) न्यूयॉर्क
(b) वियना
(c) स्टॉकहोम
(d) रोम
उत्तर-(b)
संबंधित तथ्य
  • 16 मई, 2019 को व्यापक परमाणु-परीक्षण-प्रतिबंध संधि संगठन (CTBTO-Comprehensive Nuclear-Test Ban Treaty Organisation) ने भारत को ‘पर्यवेक्षक’ का दर्जा प्रदान करने और अंतरराष्ट्रीय निगरानी प्रणाली (आईएमएस) डेटा तक पहुंच मुहैया कराने की पेशकाश की।
  • यह पेशकश इस संगठन के कार्यकारी सचिव लसीना जेरबो ने की है।
  • अंतरराष्ट्रीय निगरानी प्रणाली (आईएमएस) का संचालन सीटीबीटीओ (CTBTO) करता है, जो लगातार परमाणु विस्फोटों के लिए ग्रह की निगरानी करता है और अपने सदस्य राष्ट्रों के साथ निष्कर्षों को साझा करता है।
  • वर्तमान में अंतरराष्ट्रीय निगरानी प्रणाली के 89 देशों में स्थित 337 केंद्र हैं।
  • ज्ञातव्य है कि सीटीबीटी (CTBT) एक वैश्विक संधि है जो विश्वभर में सभी परमाणु विस्फोटों पर प्रतिबंध लगाने से संबंधित है।
  • संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा अपनाए जाने के बाद वर्ष 1996 में इसे हस्ताक्षर के लिए रखा गया था।
  • यह संधि अभी तक लागू नहीं हुई है क्योंकि इस संधि को भारत सहित कई देशों ने भेदभाव पूर्ण माना है।
  • अभी तक भारत और पाकिस्तान ने इस संधि पर हस्ताक्षर नहीं किए हैं। यद्यपि पाकिस्तान इस संगठन में पर्यवेक्षक के रूप में शामिल हो गया है।
  • चीन ने अपने देश में 5 आईएमएस स्टेशन स्थापित करने हेतु सहमति प्रदान कर दी है।
  • लसीना जेरबो ने भारत को वियना (ऑस्ट्रिया) में 24-28 जून, 2019 के मध्य आयोजित विज्ञान और प्रौद्योगिकी सम्मेलन में भाग लेने हेतु आमंत्रित किया है।

लेखक-विजय प्रताप सिंह

संबंधित लिंक भी देखें…

https://www.thehindu.com/news/international/ctbto-invites-india-to-be-an-observer-at-meetings/article27119398.ece

http://www.theweekendleader.com/Headlines/26187/nuclear-test-ban-body-offers-india-observer-status.html

http://www.newindianexpress.com/nation/2019/may/14/ctbto-offers-india-observer-status-access-to-ims-data-1976751.html NPA recoveries via IBC in 2018-19 at Rs 70,000 crore: Crisi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.