देश का पहला हाथी पुनर्वास केंद्र

India’s first elephant rehabilitation centre in the works at Kerala’s Kottoor
प्रश्न-जून, 2019 में देश के पहले हाथी पुनर्वास केंद्र के पहले चरण का कार्य किस राज्य में शुरू किया गया?
(a) तमिलनाडु
(b) मध्य प्रदेश
(c) केरल
(d) असम
उत्तर-(c)
संबंधित तथ्य
  • केरल सरकार ने राज्य इकोटूरिज्म गांव ‘कोट्टूर’ में देश का पहला हाथी पुनर्वास केंद्र स्थापित करने के लिए कार्य शुरू किया है।
  • जून माह में राज्य के मुख्यमंत्री पिनाराई विजयन ने इसके पहले चरण का उद्घाटन किया।
  • केरल इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बोर्ड द्वारा परियोजना के लिए 108 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। इस परियोजना को 2021 तक 2 चरणों में पूरा किया जाना है।
  • इस केंद्र की स्थापना का उद्देश्य बीमार हाथियों को उपचार देना, बूढ़े हाथियों के रहने की व्यवस्था तथा चोटिल हाथियों के उपचार की व्यवस्था करना है।
  • साथ ही इस केंद्र में एक हाथी संग्रहालय, प्रशिक्षण केंद्र, सुपर-स्पेशियलिटी अस्पताल भी बनाया जाएगा।
  • यह पुनर्वास केंद्र 176 हेक्टेयर क्षेत्रफल में बनाया जाएगा।
  • प्रशिक्षण केंद्र में महावतों को प्रशिक्षण दिया जाएगा।
  • इस पुनर्वास केंद्र की स्थापना श्रीलंका के पिनावाला हाथिनी अनाथालय की तर्ज पर किया जा रहा है।
  • इस केंद्र में अब तक 15 हाथी हैं तथा बुनियादी ढांचे का कार्य पूरा होने के बाद हाथियों की संख्या में बढ़ोत्तरी होगी।
  • उल्लेखनीय है कि अंतिम हाथी जनगणना के अनुसार, राज्य में कुल 507 हाथी हैं।
  • इस पुनर्वास केंद्र को विश्व स्तरीय बनाने के साथ प्रमुख पर्यटक आकर्षक केंद्र बनाने की योजना है।

लेखक-राहुल त्रिपाठी

संबंधित लिंक भी देखें…

https://www.hindustantimes.com/india-news/india-s-first-elephant-rehabilitation-centre-in-the-works-at-kerala-s-kottoor/story-UWNLcgES2hUucexj31999I.html

https://timesofindia.indiatimes.com/city/thiruvananthapuram/cm-to-inaugurate-works-of-elephant-rehab-centre-today/articleshow/69897647.cms

https://www.thehindu.com/news/national/kerala/their-haven-at-kottoor-will-now-get-cosier/article28621985.ece


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.