ग्रेटर शिमला में पेयजल व्यवस्था के संदर्भ में समझौता

India signs loan agreement to provide clean drinking water to Shimla

प्रश्न-15 फरवरी, 2019 को भारत सरकार, हिमाचल प्रदेश सरकार, और विश्व बैंक द्वारा ग्रेटर शिमला में पेयजल व्यवस्था के संदर्भ में कितनी राशि के ऋण समझौते पर हस्ताक्षर किए गए?
(a) 35 मिलियन डॉलर
(b) 40 मिलियन डॉलर
(c) 45 मिलियन डॉलर
(d) 55 मिलियन डॉलर
उत्तर-(b)
संबंधित तथ्य

  • 15 फरवरी, 2019 को भारत सरकार, हिमाचल प्रदेश सरकार और विश्व बैंक ने ग्रेटर शिमला में पेयजल व्यवस्था के संदर्भ में 40 मिलियन डॉलर के ऋण समझौते पर नई दिल्ली में हस्ताक्षर किए।
  • इस समझौते का उद्देश्य ग्रेटर शिमला क्षेत्र के नागरिकों को स्वच्छ और विश्वसनीय पेयजल उपलब्ध कराने में सहायता प्रदान करना है।
  • शिमला जलापूर्ति और सीवरेज सेवा वितरण सुधार कार्यक्रम विकास नीति ऋण-1 से शिमला के प्रतिष्ठित (IConic) पहाड़ी शहर और आस-पास के क्षेत्रों में जल आपूर्ति और स्वच्छता सेवाओं में सुधार होने की संभावना है।
  • उल्लेखनीय है कि शिमला की जलापूर्ति व्यवस्था क्षमता प्रतिदिन 40 मिलियन लीटर है, जबकि मांग प्रतिदिन 56 मिलियन लीटर की है।

संबंधित लिंक भी देखें…

http://www.worldbank.org/en/news/press-release/2019/02/15/world-bank-signs-agreement-to-help-himachal-pradesh-end-water-shortages-in-shimla

https://www.water-technology.net/news/india-agreement-drinking-water-shimla/

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.