RBI: आवास वित्त कंपनियों का नया नियामक बनेगा

RBI to come up with revised norms for housing finance companies
प्रश्न-राष्ट्रीय आवास बैंक अधिनियम 1987 के अंतर्गत राष्ट्रीय आवास बैंक की स्थापना की गई-
(a) 9 जुलाई, 1988 को
(b) 1 अप्रैल, 1987 को
(c) 1 अप्रैल, 1988 को
(d) 1 जून, 1990 को
उत्तर-(a)
संबंधित तथ्य
  • 13 अगस्त, 2019 को RBI ने आवास वित्त कंपनियों (HFCs) से संबंधित एक महत्वपूर्ण घोषणा की।
  • जिसके अनुसार HFCs को नियामकीय उद्देश्यों के लिए गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (NBFC) की एक श्रेणी के रूप में माना जाएगा।
  • ध्यातव्य है कि 2019-20 के बजट भाषण में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने घोषणा किया था कि राष्ट्रीय आवास बैंक (NHB) आवास वित्त कंपनी के नियामक के रूप में काम नहीं करेगा।
  • इसी बजट उद्घोषणा के परिप्रेक्ष्य में रिजर्व बैंक HFCs के लिए लागू मौजूदा नियामक ढांचे की समीक्षा करेगा और संशोधित नियम पेश करेगा।
  • रिजर्व बैंक के संशोधित रूपरेखा जारी करने तक HFCs राष्ट्रीय आवास बैंक के दिशा-निर्देशों का पालन करना जारी रखेंगे।
  • ध्यातव्य है कि भारत के वित्तीय सेवा उद्योग में वाणिज्यिक बैंक, बीमा कंपनियां, NBFCs को-ऑपरेटिव्स, पेंशन फंड्स, म्यूचुअल फंड्स एवं अन्य छोटी वित्तीय संस्थाएं आती हैं।

संबंधित लिंक भी देखें…

https://www.business-standard.com/article/finance/rbi-to-come-up-with-revised-norms-for-housing-finance-companies-119081400074_1.html

https://economictimes.indiatimes.com/news/economy/policy/rbi-to-review-rules-governing-housing-finance-companies/articleshow/70662208.cms

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.