भारत का पहला रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस)

प्रश्न – अक्टूबर‚ 2023 में प्रधानमंत्री द्वारा शुभारंभ किए गए भारत के पहले रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) के संबंध में विकल्प में कौन-सा तथ्य सही नहीं है?
(a) 20 अक्टूबर‚ 2023 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उत्तर-प्रदेश के गाजियाबाद में साहिबाबाद रैपिडएक्स स्टेशन पर दिल्ली गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस गलियारे के प्राथमिकता वाले खंड का उद्‌घाटन करके भारत के पहले रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआटीएस) की शुरुआत की।
(b) इस अवसर पर उन्होंने भारत की पहली रैपिड रेल सेवा‚ नमो भारत ट्रेन का शुभारंभ किया।
(c) इसके अलावा प्रधानमंत्री ने बंगलुरू मेट्रो के उत्तर-दक्षिण गलियारा की दो लाइनों को राष्ट्र को समर्पित किया।
(d) दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस कॉरिडोर का प्राथमिकता वाला खंड गाजियाबाद‚ गुलधार और दुहाई स्टेशनों के साथ साहिबाबाद को दुहाई डिपो से जोड़ेगा।
उत्तर – (c)
संबंधित तथ्य –

  • नए विश्वस्तरीय परिवहन बुनियादी ढांचे के निर्माण के माध्यम से देश में क्षेत्रीय कनेक्टिविटी को बदलने के उद्देश्य से क्षेत्रीय (रीजनल) रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) परियोजना विकसित की जा रही है।
  • आरआरटीएस एक नई रेल-आधारित‚ सेमी हाई-स्पीड‚ हाईफ्रीक्वेंशी वाली कंप्यूटर ट्रांजिट प्रणाली है।
  • 180 किमी. प्रति घंटे की गति के साथ आरआरटीएस एक परिवर्तनकारी क्षेत्रीय विकास पहल है‚ जिसे प्रति 15 मिनट में इंटरसिटी आवागमन हेतु हाई-स्पीड ट्रेनें प्रदान करने के लिए डिजाइन किया गया है‚ जो आवश्यकतानुसार प्रति 5 मिनट की फ्रीक्वेंशी तक जा सकती है।
  • एनसीआर (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र) में तैयार किए जाने वाले कुल 8 आरआरटीएस कॉरिडोर की पहचान की गई।
  • इस 8 में से तीन कॉरिडोर-दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ कॉरिडोर‚ दिल्ली-गुरुग्राम -एसएनबी-अलवर कॉरिडोर और दिल्ली-पानीपत कॉरिडोर को पहले चरण में प्राथमिकता के रूप में शुरू किया जाएगा।
  • दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस की निर्माण लागत राशि 30,000 करोड़ रुपये से अधिक है।

लेखक – विजय

संबंधित लिंक भी देखें…

https://pib.gov.in/PressReleaseIframePage.aspx?PRID=1969356