वित्तीय बेंचमार्क प्रशासक (रिजर्व बैंक) दिशा-निर्देश, 2019

RBI issues norms for financial benchmarks

प्रश्न-RBI के द्वारा विनियमित बाजारों में वित्तीय बेंचमार्क के लिए एक विनियामक ढांचा प्रस्तुत किए जाने की घोषणा की गई थी-
(a) 10 सितंबर, 2018 को
(b) 6 अगस्त, 2018 को
(c) 1 अप्रैल, 2018 को
(d) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-(d)
संबंधित तथ्य

  • 26 जून, 2019 को RBI ने वित्तीय साधनों के लिए कुशल बेंचमार्क तय करने के लिए ‘वित्तीय बेंचमार्क प्रशासक’ (FBA) की स्थापना हेतु मानदंड/ दिशा-निर्देश जारी किया।
  • ये दिशा-निर्देश रिजर्व बैंक द्वारा विनियमित वित्तीय साधनों के लिए बाजारों में ‘महत्वपूर्ण बेंचमार्क’ प्रशासित करने वाले वित्तीय बेंचमार्क प्रशासकों पर लागू होंगे।
  • RBI ने कहा कि FBA को भारत में हर समय 1 करोड़ रुपये की न्यूनतम निवल संपत्ति के साथ निगमित किया जाना चाहिए।
  • बेंचमार्क का अर्थ कीमतों, दरों, सूचकाकों, मूल्यों या वित्तीय साधनों से संबंधित एक संयोजन है, जो समय-समय पर गणना व वित्तीय साधनों या किसी अन्य वित्तीय अनुबंध के मूल्य निर्धारण या मूल्यांकन के लिए संदर्भ के रूप प्रयोग किया जाता है।

पृष्ठभूमि

  • RBI ने 5 अक्टूबर, 2018 को विकासात्मक और विनियामक नीतियों पर अपने वक्तव्य में घोषणा की थी कि रिजर्व बैंक द्वारा विनियमित बाजारों में वित्तीय बेंचमार्क के लिए वह एक विनियामक ढांचा प्रस्तुत करेगा।
  • दिशा-निर्देश 28 जून, 2013 को इसके कार्यकारी निदेशक पी. विजया भास्कर के तहत एक समिति द्वारा प्रस्तुत रिपोर्ट पर तथा IOSCO के कुछ सिफारिशों पर आधारित है।

लिबोर (LIBOR)

  • अर्थव्यवस्था में विभिन्न दरों के जैसे ही ब्याज दरों को भी अहम भूमिका होती है।
  • अंतरराष्ट्रीय बाजार में एक प्रचलित ब्याज दर है लिबोर, जो दुनियाभर में ब्याज दरों का रुख तय करती है।
  • लिबोर का पूर्ण रूप है-लंदन इंटर बैंक ऑफर्ड रेट।
  • लंदन का इंटर बैंक मार्केट धन का थोक बाजार है, जहां बैंक एक-दूसरे से उधार लेते हैं।
  • बैंक जिस ब्याज दर पर एक-दूसरे से उधार लेते हैं, उसे लिबोर कहते हैं।

लेखक-पंकज पाण्डेय

संबंधित लिंक भी देखें…
https://www.thehindu.com/business/rbi-issues-norms-for-financial-benchmarks/article28159748.ece
https://rbi.org.in/Scripts/NotificationUser.aspx?ID=11601
https://www.business-standard.com/article/pti-stories/rbi-issues-norms-for-setting-up-fbas-for-fixing-efficient-benchmarks-for-financial-instruments-119062601250_1.html

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.