राष्ट्रीय मान्यता निकाय प्रमाण-पत्र को एशिया-प्रशांत क्षेत्र में मान्यता हासिल

nabcb-accreditation-secures-recognition-in-asia-pacific-region

प्रश्न-21 दिसंबर, 2018 को एनएबीसीबी प्रत्यायन ने एशिया-प्रशांत क्षेत्र में पेशेगत स्वास्थ्य एवं सुरक्षा प्रबंधन प्रणालियों के प्रत्यायन निकायों से जुड़े अपने प्रत्यायन कार्यक्रम हेतु किसके लिए समतुल्यता प्राप्त की है?
(a) प्रमाणन निकायों के लिए
(b) शोध निकायों के लिए
(c) पर्यावरण निकायों के लिए
(d) वैज्ञानिक निकायों के लिए
उत्तर-(a)
संबंधित तथ्य

  • 21 दिसंबर, 2018 को प्रमाणन निकायों के लिए नेशनल एक्रीडिएशन बोर्ड फॉर सर्टिफिकेशन बॉडीज (National Accrediation Board for Certificatifions Body : NABCB) ने एशिया प्रशांत क्षेत्र में पेशेगत स्वास्थ्य एवं सुरक्षा प्रबंधन प्रणालियों (Occupation Health and Safety Management Systems : OHMS) के प्रत्यायन निकायों से जुड़े अपने प्रत्यायन कार्यक्रम के लिए समतुल्यता प्राप्त की है।
  • 19 दिसंबर, 2018 को भारत के राष्ट्रीय प्रत्यायन निकाय एनएबीसीबी ने प्रशांत क्षेत्र प्रत्यायन सहयोग की बहुपक्षीय मान्यता व्यवस्था पर हस्ताक्षर किए थे।
  • एनएबीसीबी प्रत्यायन कार्यक्रम अंतरराष्ट्रीय मानकों, आईएसओ/आईईसी 17021-1 और आईएसओ 45001 पर आधारित है।
  • एनएबीसीबी इस क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय दृष्टि से समतुल्य बनने वाला एशिया प्रशांत क्षेत्र का तीसरा प्रत्यायन निकाय है, जबकि दो अन्य निकाय क्रमशः हांगकांग और मेक्सिको हैं।
  • उल्लेखनीय है कि एनएबीसीबी यह सत्यापन करके विश्व बाजार में भारतीय वस्तुओं के निर्यात को सुविधाजनक बना सकता है कि ये वस्तुएं सक्षम प्रमाणन निकायों द्वारा अंतरराष्ट्रीय मानकों के अनुरूप प्रमाणित है।

लेखक-रमेश चन्द

संबंधित लिंक भी देखें…
http://pib.nic.in/newsite/PrintRelease.aspx?relid=186699
https://knnindia.co.in/news/newsdetails/sectors/nabcb-signs-mla-of-pac-for-accreditation-of-certification-bodies
http://www.uniindia.com/nabcb-accreditation-secures-recognition-in-asia-pacific-region/business-economy/news/1444666.html
https://www.business-standard.com/article/news-ians/national-accreditation-body-certificate-recognised-in-apac-region-118122100720_1.html

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.