मुस्लिम महिला (विवाह सुरक्षा एवं अधिकार) अध्यादेश, 2019

The Muslim Women (Protection of Rights on Marriage) Second Ordinance, 2019

प्रश्न-मुस्लिम महिला (विवाह सुरक्षा एवं अधिकार) अध्यादेश, 2019 दूसरी बार कब पारित हुआ?
(a) 1 जनवरी, 2019
(b) 12 जनवरी, 2019
(c) 22 जनवरी, 2019
(d) 12 फरवरी, 2019
उत्तर-(b)
संबंधित तथ्य

  • 12 जनवरी, 2019 को मुस्लिम महिला (विवाह सुरक्षा एवं अधिकार) अध्यादेश, 2019 पारित हुआ। यह 19 सितंबर, 2018 को पारित अध्यादेश का स्थान लेगा।
  • उल्लेखनीय है कि मुस्लिम महिला (विवाह सुरक्षा एवं अधिकार) विधेयक 2018, 27  सितंबर, 2018 को लोकसभा द्वारा पारित किया गया, जो वर्तमान में राज्यसभा में लंबित है।
  • यह अध्यादेश मुस्लिम महिलाओं को लिखित या इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से दिए गए सभी प्रकार के तलाक को अवैध अथवा शून्य (कानून में लागू नहीं होने योग्य) घोषित करता है।
  • यह विधेयक मुस्लिम व्यक्ति द्वारा सुनाई गई ‘तलाक-ए-विद्दत’,‘तलाक’ तथा ‘तलाक’ के सभी रूपों को परिभाषित करता हैं।
  • ‘तलाक-ए-बिद्दत’ के तहत मुस्लिम व्यक्ति द्वारा अपनी पत्नी को एक ही बार में तीन बार तलाक शब्द का उच्चारण करने से तात्कालिक और अपरिवर्तनीय तलाक हो जाता है।
  • यह अध्यादेश तलाक को एक ‘संज्ञेय अपराध’ घोषित करता है, जिसमें जुर्माने के साथ तीन साल का कारावास होता है।
  • ज्ञातव्य है कि एक संज्ञेय अपराध वह है जिसके लिए एक पुलिस अधिकारी बिना किसी वारंट के आरोपी व्यक्ति को गिरफ्तार कर सकता है।
  • अपराध केवल उसी स्थिति में संज्ञेय होगा जब विवाहित महिला (जिसके खिलाफ तलाक घोषित किया गया है) या उससे संबंधित (रक्त या विवाह से) कोई व्यक्ति अपराध संबंधी जानकारी दे।
  • अध्यादेश के अनुसार, तलाक पीड़ित महिला की सुनवाई के बाद यदि मजिस्ट्रेट इस बात से संतुष्ट हो जाता है कि आरोपी व्यक्ति को जमानत देने का उचित आधार है, तब वह आरोपी व्यक्ति को जमानत दे सकता है।
  • अध्यादेश के अनुसार, मुस्लिम महिला जिसके खिलाफ तलाक घोषित किया गया है, अपने पति से अपने लिए और अपने आश्रित बच्चों के लिए निर्वाह भत्ता पाने की हकदार है। निर्वाह भत्ते की राशि का निर्धारण मजिस्ट्रेट द्वारा किया जाएगा।
  • अध्यादेश के अनुसार, एक मुस्लिम महिला जिसे इस तरह से तलाक दिया गया है, वह अपने नाबालिग बच्चों की परवरिश का हकदार है। परवरिश का तरीका मजिस्ट्रेट द्वारा निर्धारित किया जाएगा।

लेखक-गजेंद्र प्रताप

संबंधित लिंक भी देखें…

https://www.prsindia.org/billtrack/muslim-women-protection-rights-marriage-second-ordinance-2019

http://www.newsonair.com/News?title=President-promulgates-4-Ordinances-including-Muslim-Women-(Protection-of-Rights-on-Marriage)-Second-Ordinance&id=360068

https://www.prsindia.org/sites/default/files/bill_files/Muslim%20Women%20%28Protection%20of%20Rights%20on%20Marriage%29%20Second%20Ordinance%2C%202019.pdf

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.