प्रो. नामवर सिंह

Hindi author and critic Namwar Singh passes away at 92

प्रश्न-19 फरवरी, 2019 को प्रो. नामवर सिंह का निधन हो गया। वह थे-
(a) वैज्ञानिक
(b) पर्यावरणविद्
(c) साहित्यकार
(d) इतिहासकार
उत्तर-(c)
संबंधित तथ्य

  • 19 फरवरी, 2019 को हिंदी साहित्यकार एवं प्रसिद्ध समालोचक प्रो. नामवर सिंह का नई दिल्ली में निधन हो गया। वह 92 वर्ष के थे।
  • उनका जन्म 28 जुलाई, 1926 को वाराणसी के गांव जीयनपुर (वर्तमान में जिला चंदौली) उत्तर प्रदेश में हुआ था।
  • वह हिंदी साहित्य के बड़े रचनाकार हजारी प्रसाद द्विवेदी के शिष्य थे।
  • उन्होंने बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, सागर विश्वविद्यालय, जोधपुर विश्वविद्यालय तथा जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय में अध्यापन कार्य किया था।
  • ‘छायावाद’, ‘इतिहास और आलोचना’, ‘कहानी नयी कहानी’,‘कविता के नए प्रतिमान’,‘दूसरी परंपरा की खोज’ और ‘वाद विवाद संवाद’ आदि उनकी प्रमुख रचनाएं हैं।
  • उन्होंने हिंदी की दो पत्रिकाओं ‘जनयुग’ (साप्तहिक) और ‘आलोचना’ (त्रैमासिक) का संपादन भी किया।’
  • वह महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिंदी विश्वविद्यालय, वर्धा के चांसलर भी थे।
  • उन्हें वर्ष 1971 में कविता के नए प्रतिमान (साहित्यिक समालोचना) के लिए साहित्य अकादमी अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था।
  • इसके अलावा उन्हें हिंदी अकादमी, दिल्ली द्वारा ‘शलाका सम्मान’ तथा उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान द्वारा ‘साहित्य भूषण सम्मान’ प्रदान किया जा चुका है।

लेखक-विवेक कुमार त्रिपाठी

संबंधित लिंक भी देखें…

https://www.thehindu.com/news/cities/Delhi/hindi-literary-world-loses-its-most-luminous-star-as-namwar-singh-passes-away-at-92/article26327557.ece


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.