पंजाब नेशनल बैंक और एनएसएफडीसी में समझौता

PNB signs MoA with NSFDC

प्रश्न-हाल ही में पंजाब नेशनल बैंक और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति वित्त और विकास निगम के बीच एक करार किया गया। इससे संबंधित विकल्प में कौन सा तथ्य सही नहीं है?
(a) यह करार 5 जनवरी, 2018 को किया गया।
(b) यह करार दोहरी गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले अनुसूचित जाति परिवारों के लोगों के आर्थिक सशक्तीकरण हेतु वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए किया गया है।
(c) इस आशय के समझौता-ज्ञापन पर पीएनबी के बी.एम. पाधा और एनएसएफडीसी के देवानंद ने हस्ताक्षर किए।
(d) इस करार के तहत एनएसएफडीसी की ऋण योजनाओं हेतु पीएनबी चैनलाइजिंग एजेंट के रूप में कार्य करेगी।
उत्तर-(a)
संबंधित तथ्य

  • 8 जनवरी, 2018 को पंजाब नेशनल बैंक और राष्ट्रीय अनुसूचित जाति वित्त और विकास निगम (NSFDC-National Scheduled Castes Finance and Development Corporation) के बीच एक करार (Tie-up) किया गया।
  • यह करार दोहरी गरीबी रेखा (DPL-Double Poverty line) से नीचे रहने वाले अनुसूचित जाति परिवारों के लोगों के आर्थिक सशक्तीकरण हेतु वित्तीय सहायता प्रदान करने के लिए किया गया है।
  • इस आशय के समझौता ज्ञापन पर बी.एम. पाथा (महाप्रबंधक, प्राथमिकता क्षेत्र वित्तीय समावेश विभाग, पीएनबी) और देवानंद (महाप्रबंधक, एनएसएफडीसी) ने हस्ताक्षर किए।
  • इस करार के तहत एनएसएफडीसी के ऋण योजनाओं हेतु पीएनबी चैनलाइजिंग एजेंट के रूप में कार्य करेगी।
  • दोहरी गरीबी रेखा से नीचे रहने वाले बेरोजगार अनुसूचित जाति के व्यक्तियों को रियायती वित्त और कौशल प्रशिक्षण अनुदान प्रदान किया जाएगा।

संबंधित लिंक
http://www.thehindubusinessline.com/money-and-banking/pnb-signs-moa-with-nsfdc/article10020461.ece

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.