कोल इंडिया : 1 बिलियन टन का उत्पादन लक्ष्य

Coal Minister announces 300% increase in Ex-Gratia for fatal Coal Mine Accidents
प्रश्न-भारत सरकार के स्वामित्व वाली महारत्न कंपनी ‘कोल इंडिया लिमिटेड’ (CIL) की स्थापना हुई थी-
(a) नवंबर, 1975
(b) नवंबर, 1976
(c) नवंबर, 1977
(d) नवंबर, 1978
उत्तर-(a)
संबंधित तथ्य
  • 1 नवंबर, 2019 को कोयला एवं खनन मंत्रालय के द्वारा ‘कोल इंडिया लिमिटेड’ (CIL) हेतु वर्ष 2024 तक एक बिलियन टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया।
  • यह घोषणा कोयला व खनन मंत्री प्रह्लाद जोशी द्वारा कोल इंडिया के 45वें स्थापना दिवस के अवसर पर किया गया।
  • ध्यातव्य है कि ‘CIL’ भारत सरकार के स्वामित्व वाली एक महारत्न कंपनी है, जिसकी स्थापना नवंबर, 1975 में हुई थी।
  • वर्तमान में ‘CIL’ के लिए 660 मिलियन टन कोयला उत्पादन का लक्ष्य रखा गया है, जो कि देश में कोयला उत्पाद का 82 प्रतिशत है।
  • यह वित्तीय वर्ष 202021 में 750 मिलियन टन कोयला का उत्पादन करेगी।
  • CIL द्वारा निकट भविष्य में रोजगार को बढ़ावा देने के लिए लगभग दस हजार नई नौकरियों का प्रस्ताव दिया जाएगा।
  • 82 खनन क्षेत्रों के माध्यम से परिचालित, 7 पूर्ण स्वामित्व वाली कोयला उत्पादक अनुषंगियों और 1 खनन योजना एवं परामर्श कंपनी द्वारा भारत के 8 प्रांतीय राज्यों (Provincial States) में फैला ‘CIL’ अपने क्षेत्र का एक शीर्ष निकाय है।
  • ‘CIL’ की 7 भारतीय उत्पादक सहायक कंपनियां हैं-ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (ECL),  भारत कोकिंग कोल लिमिटेड (BCCL), सेंट्रल कोलफील्ड्स लिमिटेड (CCL), वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (WCL), साउथ ईस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (SECL), नॉर्दर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (NCL) एवं महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड (MCL)।

संबंधित लिंक भी देखें…

https://www.business-standard.com/article/news-cm/coal-india-to-produce-one-billion-tonne-of-coal-by-2024-minister-of-coal-mines-119110200167_1.html

https://pib.gov.in/Pressreleaseshare.aspx?PRID=1590009

https://economictimes.indiatimes.com/industry/indl-goods/svs/metals-mining/coal-india-advances-target-for-one-billion-tonnes-production-by-two-years-to-2024/articleshow/71858137.cms

https://www.coalindia.in/en-us/company/aboutus.aspx

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.