Daily : January 2, 2017

Agni-IV missile successfully test fired

अग्नि-IV का सफल परीक्षण

प्रश्न-2 जनवरी, 2016 को नाभिकीय सक्षम बैलिस्टिक मिसाइल ‘अग्नि-IV’ का ओडिशा के डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम (व्हीलर द्वीप) से सफल प्रायोगिक परीक्षण किया गया। इसकी मारक क्षमता है-
(a) 3000 किमी.
(b) 2500 किमी.
(c) 4000 किमी.
(d) 3500 किमी.
उत्तर-(c)
संबंधित तथ्य

  • 2 जनवरी, 2016 को नाभिकीय सक्षम बैलिस्टिक मिसाइल ‘अग्नि-IV’ का ओडिशा के डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम द्वीप (व्हीलर द्वीप) से सफल प्रायोगिक परीक्षण किया गया।
  • ‘अग्नि-IV’ सतह से सतह पर मार करने वाली मिसाइल है तथा इसकी मारक क्षमता 4000 किमी. है।
  • ‘अग्नि-IV’ मिसाइल का सफल परीक्षण भारतीय थल सेना की ‘सामरिक बल कमान’ (SFC) द्वारा रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) के वैज्ञानिकों के तकनीकी पर्यवेक्षण के अधीन किया गया।
  • यह रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन द्वारा डिजाइन तथा निर्मित है।
  • 20 मीटर लंबी और 17 टन वजनी ‘अग्नि-IV’ एक द्विचरणीय मिसाइल है।
  • यह अपने साथ 1,000 किग्रा. का युद्धशीर्ष (Warhead) ले जाने में सक्षम है।
  • ज्ञातव्य है कि इससे पूर्व 9 नवंबर, 2015 को इस मिसाइल का सफल परीक्षण किया गया था।

संबंधित तथ्य
http://www.thehindu.com/news/national/Agni-IV-missile-successfully-test-fired/article16977450.ece
http://indiatoday.intoday.in/story/agni-iv-agni-v-ballistic-missile-launch-test-fire-successful-odisha-nukes/1/847631.html

The President of India approves the Promulgation of the Specified Bank Notes (Cessation of Liabilities) Ordinance, 2016

राष्ट्रपति द्वारा निर्दिष्ट बैंक नोट (देनदारियों की समाप्ति) अध्यादेश, 2016 को मंजूरी

प्रश्न-हाल ही में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने कब ‘निर्दिष्ट बैंक नोट (देनदारियों की समाप्ति) अध्यादेश, 2016’ को मंजूरी दी?
(a) 31 दिसंबर, 2016
(b) 30 दिसंबर, 2016
(c) 28 दिसंबर, 2016
(d) 26 दिसंबर, 2016
उत्तर-(b)
संबंधित तथ्य

  • 30 दिसंबर, 2016 को राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने ‘निर्दिष्ट बैंक नोट (देनदारियों की समाप्ति) अध्यादेश, 2016’ (Specific Bank Notes (Cessation of Liabilities) Ordinance, 2016) को मंजूरी दी।
  • इस अध्यादेश के तहत 31 मार्च, 2017 के बाद एक हजार और पांच सौ रुपये के नोट रखने को अपराध माना गया है।
  • जिस पर दस हजार रुपये या संबंधित नगदी की पांच गुना राशि में से जो भी ज्यादा होगी, वो जुर्माने के तौर पर वसूल की जाएगी।
  • इस अध्यादेश के मुख्य उद्देश्य निम्न लिखित हैं-
    (i) निर्दिष्ट बैंक नोट के लिए भारतीय रिजर्व बैंक और भारत सरकार की देनदारी को स्पष्टता और अंतिम रूप प्रदान करना।
    (ii) निर्धारित समय सीमा के भीतर निर्दिष्ट बैंक नोट जमा करने में विफल रहे लोगों को एक अवसर प्रदान करना।
    (iii) अध्यादेश के किसी भी प्रावधान के उल्लंघन पर जुर्माने का प्रावधान करने के साथ-साथ निर्दिष्ट बैंक नोट अपने पास रखने, हस्तांतरित करने अथवा प्राप्त करने को अवैध घोषित करना।

संबंधित तथ्य
http://pib.nic.in/newsite/PrintRelease.aspx?relid=156025

Skip to toolbar