टेल्गो-गति पकड़ती भारतीय रेल

talgo-train-in-india

प्रमोद भार्गव
(वरिष्ठ साहित्यकार और पत्रकार)

भारतीय रेल विश्व का सबसे बड़ा व्यावसायिक प्रतिष्ठान है, लेकिन इसकी संरचना हर एक स्तर पर विश्व स्तरीय नहीं है। अलबत्ता इसे विश्व स्तरीय बनाने की कोशिशें जरूर पटरी पर यथार्थ रूप में उतरने लगी हैं। मसलन सुविधा संपन्न तेज गति की गतिमान, प्रीमियम और बुलेट ट्रेनों की बुनियाद रखी जाने लगी है। दिल्ली-आगरा के बीच शुरू हुई गतिमान एक्सप्रेस इस दिशा में पहली शुरुआत थी, जो कामयाबी की दौड़ भर रही है। द्रुत गति की दूसरी रेल का अभ्यास टेल्गो ट्रेन के रूप में बरेली से मुरादाबाद के बीच हुआ है। स्पेन से आई इस रेल का यह पहले चरण का परीक्षण है, जिसमें विदेशी डिब्बों को भारतीय रेल के देशी इंजन से पटरियों में कोई बदलाव किए बिना 115 किमी. की रफ्तार से दौड़ाया गया। पहले दौर की इन शुरुआतों से साफ हुआ है कि नरेंद्र मोदी सरकार की रेलवे से जुड़ी घोषणाएं हवा-हवाई नहीं हैं। उन्हें जमीन पर उतारने की पहलें गंभीरता एवं चरणबद्ध तरीके से अमल में लाई जा रही हैं।
इस समय राजग सरकार द्वारा पटरी पर उतारी गई गतिमान एक्सप्रेस देश की सबसे तेज गति से दौड़ने वाली रेल है। सेमी हाईस्पीड यह रेल दिल्ली-आगरा के बीच 160 किमी. प्रति घंटा की गति से चलती है। 188 किमी. का यह सफर तय करने में गतिमान एक्सप्रेस महज 100 मिनट का समय लेती है। गतिमान की अधिकतम गति 160 किमी. प्रति घंटा है। जबकि टेल्गो की अधिकतम गति 200 किमी. प्रति घंटा रहेगी। भारतीय रेल पटरियों में बिना कोई बदलाव किए, इतनी गति से यह रेल इसलिए चल पाएगी, क्योंकि इसके सभी 9 डिब्बे हल्के वजन वाली एल्युमीनियम धातु से बने हैं। स्पेन से ये डिब्बे अलग-अलग कल पुर्जों में जहाज द्वारा लाए गए हैं। इन्हें आइडीएसओ के इंजीनियरों ने टेल्गो के इंजीनियरों के साथ साझा कार्यक्रम के तहत असेंबल किया। जब डिब्बे तैयार हो गए तो इनके ट्रॉयल के लिए बरेली से मुरादाबाद के बीच, 90 किमी. की लंबाई वाला ट्रैक चुना गया। दरअसल इस ट्रैक पर रेलों की आवाजाही कम है। इस ट्रैक पर पहले चरण का परीक्षण पूरा होने के बाद अब दूसरे चरण का परीक्षण पलवल-मथुरा के बीच किया जाएगा। फिलहाल इस रेल में सुरक्षा की दृष्टि से एहतियात बरतते हुए औसत मानव वजन के रेत से भरे बोरे रखकर परीक्षण किया गया है। तीसरे चरण में इसे दिल्ली से मुंबई के बीच पूरी रफ्तार से दौड़ाया जाएगा। इस परीक्षण के सफल होने के उपरांत ही यह तय होगा कि इसे रेलवे के किस मार्ग पर चलाया जाए।
टेल्गो में कई खूबियां हैं। पहली खूबी तो यही है कि इसे भारत में ही बने रेल इंजन सफलतापूर्वक चलाने में सक्षम हैं। इसलिए स्पेन से इंजन आयात करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। दूसरी खूबी यह है कि इन डिब्बों को भारत में मौजूद पटरियों में बिना कोई बदलाव किए उतार दिया जाएगा। मसलन टेल्गो के लिए बुलेट-ट्रेन की तरह अलग से खर्चीले ट्रैक निर्माण की जरूरत नहीं पड़ेगी। इसकी तीसरी खासियत है कि डिब्बों को प्लेटफॉर्म की ऊंचाई के मुताबिक हाइड्रोलिक आधारित लिफ्ट पद्धति से ऊपर-नीचे कर दिया जाएगा। इस अद्वितीय सुविधा से खासतौर से बुजुर्गों, महिलाओं और बच्चों को चढ़ने -उतरने में आसानी होगी। प्लेटफॉर्म के ऊंचा या नीचा होने से उतरने-चढ़ने में जो दुर्घटनाएं होती हैं, उनमें आशातीत कमी आएगी। टेल्गो में 30 फीसदी ऊर्जा की बचत होगी। इसके डिब्बों की एक विलक्षणता यह भी है कि दुर्घटना होने पर ये डिब्बे एक-दूसरे पर चढ़ते नहीं हैं। साफ है, दुर्घटना होने पर बड़ी जनहानि से बचा जा सकेगा।
दरअसल, डिब्बों के एल्युमीनियम से निर्मित होने के कारण एक तो ये भारी नहीं हैं, इस कारण एक डिब्बे में केवल चार पहिए लगे हैं। जबकि भारत में निर्मित डिब्बों में आठ पहिए लगे होते हैं। सामान्य स्थिति में रेल के पहियों को हाइड्रोलिक दबाव से नियंत्रित किया जाता है, किंतु आपात-स्थिति में टेल्गो रेल को रोकने के लिए डिस्क ब्रेक भी लगे हैं। जिससे आपातकाल में ब्रेक लगने पर चंद सेकंड में रेल रुक जाती है। रुकते हुए रेल में झटका नहीं लगता है, इसका कारण एक तो डिब्बे पटरी से नहीं उतरते हैं, दूसरे एक-दूसरे पर चढ़ नहीं पाते हैं।
इसे रेल मंत्री सुरेश प्रभु और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की व्यावसायिक चतुराई ही माना जाएगा कि फिलहाल ये डिब्बे खरीदे नहीं गए हैं। अलबत्ता स्पेन की कंपनी टेल्गो ने मुफ्त में ही डिब्बे बतौर ट्रायल भारत भेजे हैं। ऐसा शायद भारत में पहली बार हुआ है कि जब किसी विदेशी कंपनी ने करोड़ों की लागत से निर्मित किसी वाहन को ट्रायल के लिए भारत भेजा है। वरना भारत में तो यह परंपरा रही है कि अग्रिम धनराशि जमा करने के बावजूद वस्तुएं नहीं आई हैं। अगस्ता वैस्टलैंड हेलिकॉप्टरों की खरीद के लिए इटली की फिनमैकेनिका कंपनी से जो सौदा हुआ था, उसमें 12 हेलिकॉप्टरों की खरीद के लिए अग्रिम धनराशि खेप आने से पहले ही चुका दी गई थी। बाद में दलाली की जानकारी सामने आने के बाद इस सौदे को रद्द कर दिया गया था, किंतु अग्रिम भुगतान का क्या हुआ, स्पष्ट नहीं है। हालांकि अब इस कंपनी और इसकी सहयोगी कंपनियों को काली सूची में डालने की प्रक्रिया जरूर तेज हो गई है। खैर, टेल्गो का ट्रायल हर एक परीक्षण में खरा उतरता है, तब इसे खरीदने पर विचार होगा और खरीद प्रक्रिया में पारदार्शिता अपनाई जाएगी। हालांकि टेल्गो की जिस तरह से खूबियां सामने आई हैं, उनके चलते इसका खरीदा जाना लगभग तय है।
यह संभावना भी है कि ट्रायल के बाद टेल्गो के डिब्बे खरीद लिए जाते हैं तो पहले इन्हें राजधानी और शताब्दी रेलों में लगाया जाएगा। अभी इनमें एलएचबी कोच लगाए जा रहे हैं। टेल्गो-डिब्बों के इस्तेमाल से रेल की गति में अंतर आएगा। एयरोडायनामिक कोचों के उपयोग से रेलों की गति 50 फीसदी तक बढ़ सकती है। दिल्ली-मुंबई के बीच राजधानी की औसत गति 85 किमी. प्रति घंटा है, जबकि टेल्गो के डिब्बे लगने के बाद यही औसत गति 125 किमी. प्रति घंटे तक हो सकती है। ऐसे में दिल्ली से मुंबई के बीच का जो सफर अभी 17 घंटे में पूरा होता है, वह करीब 12 घंटे में पूरा होने लगेगा। इन डिब्बों के उपयोग से धन की बचत भी बड़ी मात्रा में होगी। एलएचबी कोच के निर्माण की लागत 2.75 करोड़ रुपये पड़ती है, जबकि टेल्गो कोच की लागत करीब 1.70 करोड़ रुपये आती है। लेकिन यहां दुविधा यह है कि भारत में किए जा रहे डिब्बों के निर्माण की लागत भले ही ज्यादा हो, लेकिन इनके निर्माण में बड़ी संख्या में कुशल और अकुशल लोगों को रोजगार मिला हुआ है। इस लिहाज से रेलवे समेत भारत सरकार को यह ख्याल रखने की जरूरत है कि टेल्गो कोचों का इतनी बड़ी संख्या में आयात न किया जाए कि भारतीय डिब्बों के कारखाने ही बंद होने लग जाएं। विदेशी कारों के आयात व उनका भारत में निर्माण का सिलसिला शुरू होने के बाद, नतीजा यह निकला कि एंबेसडर कार बनाने वाला कारखाना ही बंद हो गया। इसलिए आम आदमी का रोजगार बना रहे, यह पहली प्राथमिकता होनी चाहिए।

One Response to टेल्गो-गति पकड़ती भारतीय रेल

  1. डॉ. भारत बिरहा, नैनपुर, जिला-मंडला, मप्र says:

    भारतीय रेल ‘देश की जीवन रेखा’ है।
    इसकी समृद्धि हेतु आधुनिक तकनीक का प्रयोग अपरिहार्य है।
    अतः आवश्यकता है कि उस आधुनिक तकनीक का प्रशिक्षण समस्त भारतीय रेल संस्थान द्वारा अपने कर्मचारियों को दिया जाये तथा समस्त कच्चा माल स्थानीय स्तर के हों ताकि रोजगार के नवीन अवसर प्राप्त हो सकें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Time limit is exhausted. Please reload CAPTCHA.

Skip to toolbar